Hind Poem: लिखना


अब  लिखना  विखना  बंध  हुआ ,

वो  सपने  दिखना  बंध  हुआ ,

कागज़ , कलम  से  जो  होती  थी ,

उन  चर्चाओं  का  अंत  हुआ ।

अब  लिखना  विखना  बंद  हुआ ।

वो  सोच  सोई  दूर  कमरे  में  जाकर ,

शब्द  ढूंढे  उसे  गांव भर  फिरकर ,

मिलके  जो  सेकते दोनों, यादों  की  रोटी ,

वो  रोटी  खाना  अब  दुर्लभ  हुआ ।

अब  लिखना  विखना  बंद  हुआ ।

अब  किसी  की  कमी  नहीं  खलती ,

वो  जो  था  दर्द , अब  नर्म  हुआ ।

किसी  चेहरे  को  देख , अब  हसीं  नहीं  खिलती ,

ख़ुशी  का  जो  भाव  था ,अब  कम हुआ ।

एहसास  जो  टहला  करता  था ,

गली , मुहल्लों  और  दुकानों  में ,

उसका  अब  चौबारों  से  निकलना  ख़त्म  हुआ ।

अब  लिखना  विखना  बंद  हुआ ।

ख़त्म  हुई  अब  जुस्तजू ,

ख़त्म  हुई  अब  बेचैनी ,

ख़त्म  हुई  वो  नोक  जोक  खुदसे ,

ख़त्म  हुई  वो  गलतफैमी ,

वो  असमंजस  में  फिरती  रूह  का ,

किस्से  कहानियों  से  अब  रिश्ता  ख़त्म  हुआ ।

अब  लिखना  विखना  बंद  हुआ ।

@ramta jogi 

Advertisements

2 thoughts on “Hind Poem: लिखना

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s